LinkWithin

Related Posts with Thumbnails

15 October 2007

Yeh Jeevan hai

यह जीवन है, इस जीवन का
यही है - यही है - यही है रंग रूप

थोड़े गहूम् हैं, थोड़ी खुशियाँ
यही है - यही है - यही है चों धुप
यह जीवन है...

यह ना सोचो इसमे अपनी हार है के जीत है
इसे अपना लो जो भी जीवन कि रीत है
यह जिद चोदो, बन्धन युह ना तोड़ो
हर पल एक दर्पन है
यह जीवन है...

धन से ना दुनिया से, घर से ना द्वार से
सासों कि डोर बंधी है, प्रीतम के प्यार से
दुनिया छूते, पर ना टूटे, यह ऐसा बन्धन है
यह जीवन है...

यह जीवन है, इस जीवन का
यही है - यही है - यही है रुन्ग्रूप
थोड़े गहूम हैं, थोड़ी खुशियाँ
यही है - यही है - यही है चों धुप
यह जीवन है...

I heard this yesterday and remembered how beautiful it is and how much I like it. Yet another evergreen melody by Kishore Kumar.

If you want the lyrics in english it is here:

http://www.hindilyrix.com/songs/get_song_Yeh%20Jeevan%20Hai.html

No comments:

Post a Comment